Wednesday, October 10, 2018

पशु आहार बनाना शुरू करे अपने घर से (cattle feed )

घर से शुरू करे पशु आहार बनाना Cattle feed -


अगर आप कृषि से जुड़े हैं और खेती करते है तो ये ब्लॉग आपके लिये बहुत ही उपयोगी हैं और अगर आप खेती नहीं भी करते तो भी फिकर की कोई बात नहीं है क्योंकि पशु आहार बनाने के लिए प्रयोग किये जाने वाला सभी कच्चा माल आसानी से बाजार में उपलब्ध होता हैं।



हैलो दोस्तों आज हम जानेगे की कैसे कम इन्वेस्ट करके आसानी से पशु आहार (cattle feed) बना सकते हैं, इसे हम अपने घर से बनाना शुरू कर सकते है अगर आप कम investment करके कोई व्यवसाय शुरू करना चाहते है।
आज भारत दुनिया में सबसे ज्यादा पशुओ वाला देश जो की पूरी दुनिया का लगभग 17 % के आसपास रखता हैं, भारत दुनिया का सबसे बड़ा दुग्ध उत्पादक देश भी हैं। अतः हम इस बात से अंदाजा लगा सकते है की पशुओं के लिए बाजार में पशु आहार की कितनी मांग होगी और कितना बड़ा मार्केट हैं । बाजार में इसके लिए प्रतिस्पर्था भी है क्योकि पशु आहार बनाने के लिए बड़ी बड़ी कंपनियां मार्किट में हैं जैसे अमूल, पतंजलि आदि किन्तु अगर आप अपने पशु आहार की गुणबत्ता अच्छी रखते हैं और एक संतुलित पशु आहार बनाते है जो राष्ट्रीय मानक को पूरा करते हो तो आप एक अच्छा बाजार बना सकते हैं।

पशु आहार -

पशु आहार पशुओ के लिए एक संतुलित आहार होता है जो पशुओ को उनके कार्य के हिसाब से दी जाती हैं जैसे अगर पशु दुग्ध उत्पादन के लिए पाला जा रहा रहा है तो उसे दुग्ध उत्पादन से हिसाब से दाना दिया जाता हैं अतः उसे दुग्ध की मात्रा एवम् वजन के अनुसार पोषण दिया जाता हैं , साथ ही बछड़ो के लिए अलग , ग्याभन पशु के लिए अलग, पशु को उसके कार्य के हिसाब से अलग - अलग आहार दिया जाता है। 
संतुलित पशु आहार वह होता है जो पशु के लिए आवश्यक सभी पोषक तत्वों की पूर्ति करे। एक संतुलित पशु आहार में राष्ट्रीय मानक के अनुसार प्रोटीन, वसा , कार्बोहाइड्रेट , खनिज ,विटामिन , उचित नमी आदि एक उचित मात्रा में होने चाहिए।

पशु आहार बनाने के लिए आवश्यक मशीने-

1.ग्रांडर मशीन : 

सबसे पहले हमें एक ग्रन्डिंग मशीन की आवश्यकता होती हैं। इस मशीन के द्वारा कच्चे माल को बारीक़ पीस लिया जाता हैं,जो की पैलेट मशीन में डालने के लिए तैयार होता हैं

2.पेलेट बनाने के लिए मशीन :


  पशु का आहार कई प्रकार से दिया जाता हैं , एक में सीधे उसे मिला कर,पीस कर चूर्ण के रूप में खिलाया जाता है और दूसरा पैलेट के रूप में बनाया जाता है जिसकी बाजार में ज्यादा मांग होती है क्योकि पशु इसे खाना ज्यादा खाना पसंद करते हैं । पैलेट पशुओ के लिए 6 mm का होता है जबकि बकरी एवम् मुर्गियों के लिए 6 mm से कम आकार का होता हैं। पशुओ के लिए, बकरियो के लिए और मुर्गियों के लिए आहार एक ही मशीन में आकार एडजस्ट करके पैलेट के आकार को कम या ज्यादा किया जा सकता हैं। ग्रांडर मशीन से प्राप्त मटेरियल को पैलेट मशीन में डाल दिया जाता हैं और स्वतः ही इस से सीधे हमें पैलेट के रूप में प्राप्त हो जाता हैं।

3. वजन करने के लिए मशीन :


यह एक सामान्य मशीन है जिसके बारे में सभी जानते है इसका प्रयोग पैकिंग से पहले वजन करने के लिए प्रयोग की जाती हैं । सामान्यतः पशु आहार की 50 kg के बैग की अधिक मांग होती हैं इसके अतिरिक्त भी बाजार की मांग अनुसार अलग अलग वजन की बैग तैयार कर सकते हैं, ये आपके बाजार पर निर्भर करता हैं।

4. पैकिंग मशीन :


पैकिंग मशीन की कॉस्ट ज्यादा नहीं होती है अगर हमारा व्यवसाय छोटा है जो हम हस्त चालित पैकिंग मशीन का भी प्रयोग कर सकते हैं जिसकी कीमत बहुत ही कम होती हैं जो की बाजार में लगभग 1500 से 2000 रूपये की मिल जाती हैं,इसका प्रयोग बैग के मुंह की सिलाई करने के लिए किया जाता हैं।

5. प्रिंटिंग मशीन :

इस मशीन का प्रयोग अपने बैग पर प्रिंट करने के लिये किया जाता हैं,इसके द्वारा हम बैग पर उसकी पैकिंग डेट, वजन, पशु आहार में उपस्थित पोषक तत्वों की जानकारी, आपके ब्रांड का नाम,इत्यादि अंकित किया जाता हैं।

पशु आहार में प्रयोग किया जाने वाला कच्चा माल: 


पशु आहार बनाने के लिए सबसे महत्वपूर्ण घटक raw मटेरियल होता है क्योकि पशु आहार की गुणवत्ता उस में प्रयोग किये जाने वाले कच्चे माल पर ही निर्भर करती हैं। पशु आहार में प्रयोग किया जाने वाला कच्चा माल निम्न होता है -
1. गेहूँ की चोकर 
2. धान की भूसी
3. चने की टुकड़ी और छिलका
4. मक्का 
5. कपास की खली
6. सरसो की खली
7. सोयाबीन की खली
8. नमक
9. मीठा सोडा (पशु के अच्छे पाचन के लिए)
10.गुड़
11.supliment (जैसे - ca,mg,iron एवम् अन्य पोषक तत्व जो पशु के लिए आवश्यक होते हैं।)
अन्य बहुत सी चीजो का प्रयोग किया जा सकता हैं।
इन सभी को एक निश्चित अनुपात में मिलाकर पशु आहार को तैयार किया जाता हैं।

पशु आहार का फॉर्मूला : 

पशु आहार के फॉर्मूला से तात्पर्य है कि उसे किस अनुपात में मिलाकर तैयार किया जाता है इसके लिए हमें एक ऐसे व्यक्ति की सहायता लेनी होती है जो कि पशु के आहार से सम्बंधित विशेषज्ञ हो, जो की हमें एक उचित फार्मूला उपलब्ध करा देते है। कुछ कंपनियां भी फॉर्मूला उपलब्ध कराती है ।

मार्केटिंग : 

हम कोई भी व्यवसाय शुरू करते है तो उसमे सबसे बड़ी परेशानी हमे अपने उत्पादों को बेचने में आती हैं और जो आपके व्यवसाय को आगे ले जाने के लिए उत्तरदायी कारक होती है, अपने व्यवसाय को आगे बढ़ाने के लिए हमे सबसे अधिक मेहनत भी मार्केटिंग में करनी होती हैं।
हमे अपने प्रोडक्ट की मार्केटिंग निम्न तरीको से करनी चाहिए -
1.हमे न्यूसपेपर में विज्ञापन देना चाहिए।
2.अपने प्रोडक्ट की गुणवत्ता के बारे में लोगो को बताना चाहिए।
3.पशु आहार,पशुओं को खिलाने के फायदे लोगो को बताना चाहिये ।
4.गांव में जाकर लोगो के बीच सेमीनार रखना।
5.डैरी फार्म पर जाना एवम् उन्हें अपने प्रॉडक्ट के बारे में बताना।
6.बाजार में जाकर होलसेलर से संपर्क करना।
7.सोशल मीडिया पर अपने प्रॉडक्ट का प्रचार प्रसार करना।
इस प्रकार के अन्य तरीको से अपने प्रोडक्ट को मार्केट में पहुचाया जाता हैं।

पशु आहार खिलाने के फायदे : 

1.इससे पशु के दूध देने की क्षमता में वृद्वि होती हैं।
2.पशु में रोग प्रति रोधक क्षमता में वृद्वि होती हैं।
3.पशु का स्वास्थ्य अच्छा रहता हैं।
4.इसके पशु का पाचन अच्छा रहता हैं।
इसके अतरिक्त अन्य सकारात्मक प्रभाव पशु के स्वास्थ्य पर पड़ते हैं।

 अगर आप मशीन खरीदना चाहते हैं तो आप हमे कमेंट करे या हमें मेल कर सकते हैं और मशीन डीलर की जानकारी प्राप्त करें ।


अन्य लेख देखें :

मशरुम की खेती -
एलोवेरा की खेती -

2 comments:

Share and comment