Friday, April 26, 2019

Mridaparikshak/मृदापरिक्षक

मृदा स्वास्थ्य, उर्वरक सिफारिश और मृदा स्वास्थ्य कार्ड की तैयारी के अनुमान के लिए एक मिनी लैब : मृदापरिक्षक






भारतीय मृदा विज्ञान संस्थान, भोपाल(भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद /ICAR) के प्राकृतिक संसाधन प्रबंधन (NRM) प्रभाग के तहत संस्थान ने एक लघु प्रयोगशाला `मृदापरिक्षक’ (भारत में पेटेंट और व्यापार चिह्न के लिए लागू) विकसित की है जो 15 महत्वपूर्ण मृदा पैरामीटर अर्थात पीएच, ईसी, ऑर्गेनिक कार्बन, उपलब्ध नाइट्रोजन, फास्फोरस, पोटैशियम, सल्फर, जिंक, आयरन, मैंगनीज, बोरान, तांबा,  आवश्यकता जिप्सम,आवश्यकता चूना और विलेयता आदि का अनुमान लगा सकता हैं।

इसे भी जाने : मृदा परीक्षण/Soil testing

यह किसानों के घर पर मृदा परीक्षण सेवा प्रदान करने के लिए एक डिजिटल मोबाइल मात्रात्मक मृदा परीक्षण मिनिलैब है। यह मृदा स्वास्थ्य कार्ड के साथ संगत है। `मृदापरिक्षक’ स्मार्ट मृदा-समर्थक, मृदा मापदंडों को निर्धारित करने और उर्वरक पोषक तत्वों की सिफारिशों को प्रदर्शित करने के लिए एक उपकरण के साथ आता है। इसके अलावा, इस मिनीलैब को सप्लाइज, इलेक्ट्रॉनिक वेटिंग बैलेंस, शेकर (दो प्लेट्स के साथ), हॉट प्लेट आदि के साथ दिया जाता है। इसके अलावा, 'मृदापरिक्षक' के नतीजों को एसएमएस के जरिए किसानों तक तेज़ी से पहुँचाया जा सकता है। मृदा परीक्षण रिपोर्ट को मिनिलेब में भी बचाया जा सकता है। `मृदापरिक्षक’ के साथ प्रदान किए गए रासायनिक समाधानों की मात्रा 100 नमूनों के विश्लेषण के लिए है और समाधानों को बाद में फिर से भरा जा सकता है।
भारत में बिक्री के लिए `मृदापरिक्षक’ की कीमत रु। 86,000 / - (स्थानीय कर अतिरिक्त) और 100 नमूनों के लिए `रीफिलिंग 'की कीमत रु। 17,000 / - (स्थानीय कर अतिरिक्त)। `मृदापारीक्ष 'के निर्माण और बिक्री का लाइसेंस मेसर्स नागार्जुन एग्रो केमिकल्स प्राइवेट लिमिटेड, हैदराबाद के पास है। यदि आप मृदापरिक्षक चाहते है, तो आप अपने आदेश को सीधे 'मृदापरिक्षक' के लिए मेसर्स नागार्जुन एग्रो केमिकल्स प्राइवेट लिमिटेड, हैदराबाद को दे सकते हैं। निदेशक, ICAR-IISS, भोपाल को सूचना के साथ।

जानकारी का स्त्रोत :भारतीय मृदा विज्ञान संस्थान, भोपाल(भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद /ICAR) ।

इन्हें भी देखें :
ड्रैगन फ़्रूट की उन्नत खेती

चिया की खेती


वर्मीकम्पोस्ट या केंचुआ खाद से करे खेती का कायाकल्प और कमाए लाभ

0 comments:

Share and comment