Sunday, February 23, 2020

लागत कम कर उत्पादन एवं उत्पादकता वृद्धि के मूल मंत्र

लागत कम कर उत्पादन एवं उत्पादकता वृद्धि के मूल मंत्र



खेती की लागत को कम करने उत्पादन बढ़ाने एवं उत्पादकता में वृद्धि करने के लिए खेती के दौरान किसान भाइयों को निम्न बातों का विशेष रूप से ध्यान रखना चाहिए


  • खेत की मिट्टी को बहने ना दें और मृदा एवं जल संरक्षण करें ।
  • प्रत्येक 3 वर्ष में एक बार खेत की गहरी जुताई अवश्य करें ।
  • मृदा की जाँच अवश्य कराये
  • खेतों में फसल अवशेषों को ना जलाएं क्योंकि इससे मृदा में आवश्यक जीवाणुओं का नाश होता है । 
  • उन्नत एवं प्रमाणित बीजों का उपयोग करें ।
  • इसे भी देखे : अच्छे बीज के गुण
  • निर्धारित बीज दर का उपयोग करें बीज उपचार अवश्य करें ।
  • समय पर बुवाई करें ।
  • जैविक खाद का उपयोग करें ।
  • उर्वरकों का संतुलित उपयोग करें ।
  • सूक्ष्म तत्व जैसे आयरन, मैग्नीज, बोरान, एवं क्लोरीन आदि की कमी होने पर इनकी पूर्ति करें ।
  • खेत में खरपतवार को न बढ़ने दें एवं खेत को खरपतवार मुक्त रखें ।
  • उन्नत कृषि यंत्रों का उपयोग करें ।
  • समय पर कीटों का प्रबंधन करें ।
  • फसल अनुसार कल्चर जैसे राइजोबियम पीएसबी एवं एजोटोबैक्टर का उपयोग करें ।
  • अंतरवर्ती फसल पद्धति अपनाये ।
  • मिश्रित खेती को बढ़ावा दें जैसे खेती के साथ पशु पालन करना मधुमक्खी पालन आदि करना ।

इन बातों का किसान भाइयो को विशेष रूप से ध्यान में रखना चाहिए क्योंकि ये बाते देखने में बहुत सूक्ष्म लगती है किंतु इनके दूरगामी परिणाम पुरे होते हैं और किसान भाइयो को आर्थिक नुकसान उठाना पड़ता हैं।

No comments:

Post a Comment

Share and comment